October 3, 2022
Monkeypox बना भारत के लिए नई मुसीबत| Bharat Bulletin News| India News|

Monkeypox: भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने जुलाई से अगस्त 2022 के दौरान केरल और दिल्ली में पाए गए मंकीपॉक्स के मामलों के संपूर्ण जीनोम अनुक्रम का विश्लेषण किया है। आईसीएमआर-एनआईवी पुणे द्वारा किए गए अध्ययन की रिपोर्ट में बताया गया है कि, इसने A.2 वंश के बीच तीन उप समूह पाए गए हैं- पहला क्लस्टर केरल (N5) और दिल्ली (N2) यूएसए-2022 ओएन 674051.1 के साथ संरेखित, जबकि दिल्ली का दूसरा (N3) यूएसए-2022 ओएन 675438.1 के साथ संरेखित है और तीसरे क्लस्टर में यूके, यूएस और थाईलैंड शामिल हैं।

ए.2 वंश से संबंधित हैं Monkeypox के वंश

अध्ययन के अनुसार, भारत से प्राप्त सभी अनुक्रम 90 से 99 प्रतिशत जीनोम को कवर करते हैं, क्लैड आईआईबी के A.2 वंश के हैं।
आईएएनएस की खबर के मुताबिक, “भारत से 90 से 99 प्रतिशत जीनोम को कवर करने वाले सभी पुनप्र्राप्त एमपीएक्सवी अनुक्रम क्लैड आईआईबी के ए.2 वंश से संबंधित हैं। ए.2 एमपीएक्सवी वंश तीन उप समूहों में विभाजित है, पहला क्लस्टर केरल एन5, दिल्ली एन2 यूएसए-2022 के साथ संरेखित ओएन674051.1, जबकि दिल्ली एन3 का दूसरा भाग वरअ-2022 के साथ संरेखित है ओएन675438.1 और तीसरा यूके, यूएसए और थाईलैंड का है।

96 संदिग्ध Monkeypox मामले

वहीं एमपीएक्सवी वंश में हालिया अपडेट ने केरल के सभी पांच अनुक्रमों को ए.2.1 के रूप में नामित किया है। जुलाई से अगस्त 2022 की अवधि के दौरान 18 राज्यों और 3 केंद्र शासित प्रदेशों से 96 संदिग्ध मंकीपॉक्स मामलों के क्लिनिकल नमूने यानी ऑरोफरीन्जियल स्वैब (ओपीएस), नासॉफिरिन्जियल स्वैब (एनपीएस), लेसियन क्रस्ट और घाव के तरल पदार्थ 18 राज्यों और 3 केंद्र शासित प्रदेशों से आईसीएमआर-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे को भेजे गए थे।

 

Read Also: हमारी आंखों के लिए क्या है बेहतर- आई क्रीम, जेल या मास्क?

 

Monkeypox के नेगेटिव मामलों की भी जांच की गई

आईएएनएस की खबर के अनुसार, मंकीपॉक्स विशिष्ट रीयल टाइम पीसीआर का उपयोग करके सभी मामलों के नैदानिक ?नमूनों का परीक्षण किया गया। उनमें से केरल और दिल्ली के पांच-पांच मामले एमपीएक्सवी के लिए सकारात्मक पाए गए। वैरीसेला जोस्टर वायरस (वीजेडवी) और एंटरोवायरस (ईवी) विशिष्ट वास्तविक समय पीसीआर के लिए सभी मंकीपॉक्स नकारात्मक मामलों की भी जांच की गई।

114 में से 10 मामलों की पुष्टि

114 मामलों में से ऑर्थोपॉक्स और मंकीपॉक्स विशिष्ट रीयल टाइम पीसीआर दोनों का उपयोग करके भारत से दस मामलों में एमपीएक्सवी संक्रमण की पुष्टि की गई थी। इसके अलावा मंकीपॉक्स नेगेटिव मामलों की स्क्रीनिंग ने वास्तविक समय पीसीआर द्वारा वीजेडवी और ईवी की उपस्थिति का संकेत दिया। देश में मंकीपॉक्स के 10 मामलों की पुष्टि की गई थी, जिनमें दिल्ली के तीन पुरुष और दो महिलाएं संक्रमित पाए गए थे। इनका कोई अंतर्राष्ट्रीय यात्रा का इतिहास नहीं था, जबकि पांच पुरुष संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से भारत के केरल पहुंचे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.